मंगलवार, 13 जुलाई 2010

सदैव छलनी किया है मुझे व्यवस्था के क्रूर पंजों ने .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें